Just Try Art


लोकगीत
JUST TRY ART

रानी बैठी पलंग पे


रानी बैठी पलंग पे रुवाब कसती

तुमने सासू को बुलाया हमसे कहा भी नहीं

हमसे कहा भी नहीं हमसे पूछा भी नहीं

रानी ऐसी मार मारू जिसकी गिनती भी नहीं

जिसकी गिनती भी नहीं हमको लगती भी नहीं

रानी तेरी जैसी नकटी हमने देखि ही नहीं

राजा नकटी भी ना होती तो घर में टिकती भी नहीं








  • Just

    Try

    Art

    Copyright © 2015-2019 Just Try Art. All Rights Reserved.